जानिये इस्लाम धर्म का इतिहास और उससे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

history and important facts about islam religion

जैसा की हम जानते है कि इस्लाम एकेश्वरवादी धर्म है जो कि अल्लाह की तरफ से अंतिम रसूल और नबी, मुहम्मद द्वारा ही इंसानों तक पहुंचाई गई अंतिम अल्लाह की किताब कुरान की शिक्षा पर स्थापित है। इस्लाम क्या है? इसका मतलब है कि अल्लाह को समर्पण। इसी तरह मुसलमान वो इंसान है जिसने अपने आपको अल्लाह को समर्पित कर दिया है। इसका मतलब है कि मुसलमान इस्लाम धर्म के नियमों पर चलने लगा है।

यह इस्लाम धर्म का आधारभूत सिद्धांत है कि अल्लाह को सर्वशक्तिमान, एकमात्र अल्लाह और जगत का पालक और हजरत मुहम्मद को उनका संदेशवाहक या पैगम्बर मानना है। इसी बात को उनके कलमे में दोहराया गया है। ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदुर्रसूलुल्लाह इसका मतलब है कि अल्लाह एक ही है। उसके अलावा  नहीं है और मुहम्मद उसके रसूल या पैगम्बर है।

जानिये क्या है इस्लाम धर्म से जुड़े हुए कुछ महत्वपूर्ण तथ्य:

islaam

 

 

 

 

 

 

 

 

  1. जो इस्लाम धर्म के संस्थापक थे वे हजरत मुहम्मद थे।
  2. 570 ई. में मक्का में ही हजरत मुहम्मद का जन्म हुआ था।
  3. ऐसी मान्यता है कि हजरत मुहम्मद को 610 ई में मक्का के ही पास में एक हीरा नाम की गुफा है वही इन्हे ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
  4. इस्लाम जगत में 24 सितंबर को पैगंबर की मक्का से मदीना की यात्रा को मुस्लिम संवत के नाम से जानी जाती है।
  5. 25 साल की उम्र में हजरत मुहम्मद की शादी खदीजा नाम की एक विधवा से हुई थी।
  6. फातिमा हजरत मुहम्मद की बेटी का नाम है और दामाद का नाम अली हुसैन है।
  7. अरबी भाषा में देवदूत गेब्रियल ने पैगंबर मुहम्मद को कुरान संप्रेषित की थी।
  8. कुरान इस्लाम धर्म का बहुत ही पवित्र ग्रंथ है।
  9. पैगंबर मुहम्मद ने कुरान की शिक्षाओं का उपदेश दिया था।
  10. हजरत मुहम्मद की मृत्यु 8 जून 632 ई. को हुई. इन्हें मदीना में दफनाया गया।
  11. जब हजरत मुहम्मद की मृत्यु हो गई थी उसके बाद में इस्लाम शिया और सुन्नी दो पंथो में बट गया था।
  12. सुन्नी मुस्लिम वह होते है जो कि सुन्ना में विश्वास रखते है और सुन्ना हजरत मुहम्मद के कथनों और कार्यों का विवरण है।
  13. जो शिया मुस्लिम है वह अली की शिक्षाओं में विश्वास रखते है और उन्हें हजरत मुहम्मद का उत्तराधिकारी मानते है। अली हजरत मुहम्मद के दामाद थे।
  14. सन 661 में अली की हत्या कर दी गई थी। एवं अली के बेटे हुसैन की हत्या 680 में कर्बला में कर दी गई थी। इन्ही हत्याओं ने शिया को निश्चित मत का रूप दे दिया गया था।
  15. जो हजरत मुहम्मद के उत्तराधिकारी थे वो खलीफा कहलाए गए थे।
  16. इस्लाम धर्म में खलीफा पद 1924 ई. तक रहा था। 1924 में इसे तुर्की के शासक मुस्तफा कमालपाशा ने खत्म कर दिया था।
  17. इब्न ईशाक ने सबसे पहले कहा जाता है कि हजरत मुहम्मद का जीवन चरित्र लिखा था।
  18. हजरत मुहम्मद के जन्मदिन को ईद-ए-मिलाद-उन-नबी के नाम से मनाया जाता है।

For more information visit https://www.muslimblackmagicvashikaran.com/

Like and Share our Facebook Page.